Loading... देश एक, एक हैं हम सब: सांप्रदायिक सदभाव और राष्ट्रीय एकता पर आधारित कविताएँ (Desh Ek, Ek Hain Hum, Sampradayik Sadbhav Aur Rashtriya Ekta Par Adharit Kavitaaye) संपादक एवं संयोजक: डॉ. एम. डी. थॉमस (Sampadak Evam Sanyojak Dr. M. D. Thomas) 1111015879350
Currently Updating... Please visit later..

Book Code: 1111015879350

संपादक एवं संयोजक: डॉ. एम. डी. थॉमस (Sampadak Evam Sanyojak Dr. M. D. Thomas)

All Prices are including Free shipping via Air-Mail

Pages:
ISBN 13:
ISBN 10:
Your Price:

Year:
Language:
Publisher:
Pages:
Book Category:
Subject:

Untitled Document

किताब के विषय में

देश एक, एक हैं हम सब  

देश एक, एक हैं हम सब एक ऐसा रोचक संकलन है, जिसमें ‘सांप्रदायिक सद्भाव और राष्ट्रीय एकता’ विषय के विविध आयामों पर देश के जाने-माने कुछ 100 प्रतिष्ठित कवियों द्वारा भारत की राष्ट्र-भाषा हिंदी में रचित कुछ 125 कविताएँ समाहित हैं। 

‘देश एक है’। यह उक्ति राष्ट्र के तौर पर ‘भारत की एकता और अखण्डता’ को ज़ाहिर करती है। ‘एक हैं हम सब’। यह भारतवासियों के मन में होने वाली ‘राष्ट्रीय समरसता’ की बुलंद भावना है, जो संप्रदायों के दायरे से आगे बढ़क​र ‘आपसी सद्भाव, समभाव, सरोकार और सहकारिता’ के बलबूते ‘साझी संस्कृति’ को जीने पर नज़ीब होती है। 

‘विविधता’ भारत की विशिष्ट पहचान है। जाति, भाषा, विचारधारा, धर्म, संस्कृति, खान-पान, वेशभूषा, आदि विविधताओं में ‘एकता’ की बिगुल बजाने वाला तत्व ‘समरसता’ है। भारत के संविधान में मौज़ूद ‘पंथ-निरपेक्षता’ इस समरसता का आधार है। ‘सभी रहें’ यह भाव लोकतंत्र की आत्मा है। ‘भारतीयता’ विविधता, पंथ-निरपेक्षता, समग्रता, समता, समरसता, एकता और साझेदारी का संयुक्त फल भी है।

सद्भाव, आपसी समझ, मैत्री और सामाजिक समन्वय के ज़रिये भारत के नागरिकों में देश की अखण्डता और एकता को मजबूत करने और उसके फलस्वरूप साप्रदायिक सद्भाव और राष्ट्रीय एकता का माहौल कायम रखने में और ‘मिल-जुलकर रहने की तहज़ीब’ की ओर उभरने में इन महान कवियों की मर्मस्पर्शी और प्रेरणादायक उद्भावनाएँ और उद्गार बहुत काम आयेंगी, यह हमारी प्रबल आशा है।

डॉ. एम. डी. थॉमस


लेखक के विषय में

डॉ. एम. डी. थॉमस

बहु-आयामी चिंतक, लेखक, वक्ता, साहित्यकार, संगीतज्ञ, समाजसुधारक, आदि। 

जन्म-तिथि = 01 जून 1953। जन्म स्थान = मूलमट्टम्, जिला इडिक्की, केरल।
मातृभाषा = मलयालम्। औपचारिक भाषाएँ = हिंदी और अंग्रेज़ी।
‘समग्र साधना’ तथा ‘समन्वयमूलक समाज का सृजन’ के लिए आजीवन समाज-सेवा का मिशन। 

विक्रम विश्वविद्यालय​, उज्जैन, से हिंदी साहित्य में एम. ए. और काशी हिंदू विश्व विद्यालय, वाराणसी, से पीएच.डी.। 
इदिरा कला संगीत विश्वविद्यालय, खैरागढ़, से हिंदुस्तानी शास्त्रीय संगीत में प्रथमा, मध्यमा और बीम्यूज़. (7 साल)
अर्बन विश्व विद्यालय, रोम, से बाइबिल और तुलनात्मक धर्म दर्शन पर बी.टीएच.। 

पुस्तकें = ‘कबीर और ईसाई चिंतन’ (2003) और ‘मूल्य बाइबिल के’ (2016)।
संगीत एलबम = ‘समन्वय धारा’ और ‘मूल्य बाइबिल के’।
किताबों, पत्रिकाओं और समाचार पत्रों में हिंदी और अंग्रेज़ी में 300 तक लेखों का प्रकाशन।

शैक्षिक, सांस्कृतिक, सर्व धर्म और सामाजिक संस्थानों, संगोष्ठियों और मंचों पर हज़ारों की तादाद में व्याख्यान।
25 से अधिक देशों का शैक्षिक और सांस्कृतिक यात्रा।
सर्व धर्म समन्वय, सामाजिक समरसता, सांप्रदायिक सद्भाव, राष्ट्रीय एकता और वसुधैवकुटुंबकम् के लिए 30 वर्षों से सेवा।    

समाजिक सेवाओं के लिए ‘नैशनल एक्स्लेन्स अवार्ड’, ‘आइकन ऑफ इंडिया’ और ‘हिमालय और हिंदुस्तान रत्न’ से पुरस्कृत।  
साहित्यिक सेवाओं के लिए ‘साहित्यिक कृति सम्मान’, ‘स्वामी देवानंद हिंदी पुरस्कार’ और ‘मानव भूषण सम्मान’ से पुरस्कृत।
सांप्रदायिक सद्भाव की सेवाओं के लिए ‘शांतिदूत संस्कृति और शांति पुरस्कार’, आदि से पुरस्कृत।   

समन्वय धर्म और संस्कृति संस्थान, उज्जैन, के पूर्व-संस्थापक निदेशक।
सर्व धर्म समन्वय आयोग, सी.बी.सी.आई., नयी दिल्ली, के पूर्व-राष्ट्रीय निदेशक और ‘फेलोशिप’ के पूर्व-संपादक।
इस समय, आप इंस्टिट्यूट ऑफ़ हारमनि एण्ड पीस स्टडीज़, नयी दिल्ली, के संस्थापक निदेशक।

-------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------

संपर्क सूत्र

डॉ. एम. डी. थॉमस
संस्थापक निदेशक, इंस्टिट्यूट ऑफ़ हारमनि एण्ड पीस स्टडीज़
मंजिल 1, ए 128, सेक्टर 19, द्वारका, नयी दिल्ली-110075

दूरभाष - 09810535378 (p), 08447925378 (p), 011-45575378 (o)
ईमेल - mdthomas53@gmail.com (p), ihps2014@gmail.com (o)
वेबसाइट - www.mdthomas.in (p), www.ihpsindia.org (o)



CONTENTS

1.                     आप मुझे निज दर्शन देंगे                    रवीन्द्रनाथ टैगोर
2.                     पर एक ही पंछी सबमें बंद                    बालकवि बैरागी
3.                     तो ये दूरियाँ हैं क्यों?                                                    मुनव्वर अली ‘ताज’
4.                     सद्भाव से बढ़कर कोई धर्म नही                       पंडित हरिराम द्विवेदी
5.                     एक जात इन्सान की                              खुर्शीद अजेय
6.                     एक है एक हिन्दोस्तां                              बालस्वरूप राही
7.                     यह भारतवर्ष हमारा                 इम्तयाज अहमद अन्सारी
8.                     नफ़रत को यूँ तमाम करें                     डेनिस अजमेरी
9.                     पढ़ पाये नहीं, जीवन का आख्यान                    डॉ. रामनिवास ‘मानव’
10.                   मानव मानव के लिए दर्द हो                     अमरेन्द्र कुमार मिश्र
11.                   विश्वास की हत्या न हो                      डॉ. गोविन्द व्यास
12.                   देश पे कुर्बान जायेंगें                              श्री जगदीश जैन ‘जगदीश’
13.                   पहले इन्सान बनें                                            श्री किशन सरोज
14.                   धर्म के नाम पर मत कफ़​न बाँटिये           डॉ. अशोक ‘मधुप’
15.                   आदमीयत​ है जरूरी आपके आचार में          नीलान्जली जैन ‘केसर’
16.                   कर्म ही हमारा धर्म है                     डॉ. राजेश्वरी शांडिल्य
17.                   सद्भाव के फूल खिलाओ                    डॉ. मुहम्मद अहमद
18.                   एक रहेगा हिन्दुस्तान                     डॉ. राजवीर सिंह ‘क्रान्तिकारी’
19.                   सर्व धर्म समभाव हमारे संस्कार का द्योतक है      एडवोकेट अवधेश कुमार मिश्र
20.                   बापू तुम्हारे देश में क्या-क्या हो रहा है        अनिल कुमार यादव 
21.                   मिल-जुलकर सब रहें प्रेम से                डॉ. सुलोचना शर्मा
22.                   आदमीयत​ है जरूरी आपके आचार में         अवधेश पाण्डेय
23.                   मस्जिद और मन्दिर से कोहराम!             डॉ. आनन्द सुमन सिंह
24.                   ज़रूरी है बहुत इस दौर में इन्साँ होना         पंडित हरिराम द्विवेदी
25.                   हम तो केवल आदमी हैं, आदमी!             डॉ. राम कृष्ण लाल ‘जगमग’
26.                   पर ये क्यों नहीं कहते ‘दो लाख इंसान मरे’!         डॉ. तारिक असलम ‘तस्नीम’
27.                   मनायेंगे सब इक साथ मिलकर              डॉ. विजय कुमार
28.                   प्रेम-मंत्र का करें संचार                     डॉ. महाश्वेता चतुर्वेदी
29.                   रहे प्रेम-सौहार्द                            सेराज खान ‘बातिश’               
30.                   भेदभाव से ऊपर उठकर                    स्वदेश कुमार भटनागर
31.                   ज़िंदादिली की बात करें                    भगवानदास जैन
32.                   भाईचारे की खुशी हो                      गुलशन मदान

33.                   मिटा दो नफ़रत की दीवारों को                डॉ. राजवीर सिंह क्रान्तिकारी
34.                   दिल में इंसान के, प्यार ही प्यार हो           डॉ. हरिराज सिंह
35.                   आओ मिलकर हम एक बनें                पंडित हरिराम द्विवेदी
36.                   गीत प्यार का गाना होगा                  डॉ. वी.के. वर्मा
37.                   अपने वतन को प्यार का गुलशन बनाइये      हरीश चंद्र सक्सेना ‘मुहसिन’
38.                   धर्म के सद्भाव को बचायें                   डॉ. मिथिलेश शुक्ल
39.                   एक दिन तो दोस्तों में बैठ                 मनोहर विजय
40.                   मुकम्मल इंसा जज़्बातों से बनता             डॉ. प्रभा दीक्षित
41.                   हम एक रहेंगे                           रऊफ़ परवेज़
42.                   इन्सानों का इन्सानों से मेल हो              साहिल
43.                   नियंता है केवल एक                      धर्मशील चतुर्वेदी
44.                   एक दूजे की छांव में                      डॉ. स्वदेश कुमार भटनागर
45.                   हिन्दुस्तान गुलों भरा गुलदान               रमेश चन्द्र गोयल ‘प्र​सून’
46.                   धरम से पहले ‘वतन’ होना चाहिए       अलीहसन मकरैंडिया
47.                   खून इन्सान का बहाया न करो              दिलीप सिंह ‘दीपक’
48.                   आओ हम सब साथ रहें                    अमरेन्द्र कुमार मिश्र
49.                   नज़र से नज़र मिला कर देखो               प्रकाश ‘सूना’
50.                   मेरा वतन                              डॉ. विनय कुमार
51.                   सबको एक ईमान दे                      आचार्य मुकेश श्रीवास्तव ‘मुकेश’
52.                   हिन्दुस्तान एक है                        डॉ. रामनिवास ‘मानव’
53.                   यह मिट्टी महान है                              युनूस अंसारी
54.                   हरेक चौराहे पर प्यार का दीपक जलाना है     ‘डेनिस’ अजमेरी
55.                   आओ हम इन्सान बनें                    जाहिद शाह जाहिद
56.                   तंग-दिली से निकल मैं आसमाँ छू लूँ         डॉ. सुनील कुमार अग्रवाल
57.                   कहते हो मोहम्मद से वफ़ा है                फरहत जमा खान (सागर)
58.                   कितने रंगों में रंगा है मेरा भारत देश         अनवर सलीम
59.                   अब भी वक्त है, रोक लो अपने कदम         हरकीरत हक़ीर
60.                   मज़हबिया आँधी ने कैसा ताण्डव दिखलाया     डॉ. ब्रह्मजीत गौतम
61.                   उस ‘हिन्दोस्ताँ’ की बात कर            खुर्शीद नवाब
62.                   सबके साथ-साथ कदम चलें                 पंडित हरिराम द्विवेदी
63.                   अम्न का पैगाम दो                       मुनव्वर अली ‘ताज’
64.                   एक-दूजे के मेहमान हो                    साहिल
65.                   धर्म के नाम पे इन्सान न बंटने पाये         कुंवर कुसुमेश
66.                   मिटा दो नफ़रत की दीवारों को               डॉ. राजबीर सिंह क्रान्तिकारी
67.                   देश हमारा सबका है                      श्याम ‘अंकुर’
68.                   अम्न की जो ये शमां जलती रहे...           डॉ. मु. सेराज अहमद खान

69.                   मैं सब के लिए हूँ                               मुनव्वर अली ‘ताज’
70.                   प्यार की गोद में नन्हा सा खुदा पलता है      राकेश मल्होत्रा ‘नुदरत’
71.                   हर ओर अमन होता हथियार जो न होते अशोक ‘अंजुम’
72.                   दर ईश्वर का कोई भी हो, अपना शीश झुका लेना          याम झँवर ‘श्याम’
73.                   आपस में मौहब्बत से रहो                  महमूद खान अब्बासी
74.                   आओ सब मिल के चलें                    महेन्द्र प्रताप ‘चाँद’
75.                   सब का होगा जब एक धर्म                 डॉ. महाश्वेता चतुर्वेदी
76.                   गैरों को हम अपना बनाएंगे                 प्रकाश ‘सूना’
77.                   दुनिया को भाईचारे की ज़ंज़ीर चाहिये         शम्मी-शक्स-वारसी
78.                   रहें सब प्यार से मिलकर                   विजय कुमार ‘तन्हा’
79.                   आओ घर-घर दीप जलाएं                  प्रो. डॉ. जयजयराम आनंद
80.                   काम मिलकर करें सब अमन के लिये         अमित चितवन
81.                   स्वयं को मानव रूप में जानो               डॉ. सुनील कुमार अग्रवाल
82.                   कंठ-कंठ से गूँजे जग में मानवता के गीत      मदन मोहन शुक्ल
83.                   लुटे घरों की तन्हाइयाँ                     हरकीरत हक़ीर
84.                   ओ अर्न्त​यामी एक है                      विजय गुप्त
85.                   मन्दिर-मस्जिद के झगड़ों में समय न गवाओ रे.... उमा श्री
86.                   कोई किसी के धर्म का अपमान मत करो अब्दुल समद राही
87.                   युग-युगों से जल रहा, सद्भाव का पावन दिया    डॉ. रामसेवक शुक्ल
88.                   हम हैं केवल हिन्दुस्तानी                   अनिता श्रीवास्तव ‘तमन्ना’
89.                   वो है मेरा हिन्दुस्तान                     खुर्शीद नवाब
90.                   भूलो भेद सिख ईसाई हिन्दू मुसलमान के      डॉ. सुशील गुरू
91.                   कितना मुश्किल है धार्मिक होना             डॉ. रामनिवास ‘मानव’
92.                   अपने हैं जी लोग सभी                    श्याम ‘अंकुर’
93.                   मन्दिर भी ज़रूरी है मस्जिद भी ज़रूरी है      सागर सियालकोटी
94.                   सबका खुदा एक है                       डॉ. रसूल अहमद ‘सागर’
95.                   मज़हब, भाषा, जाति-पाँति के भूलें सभी विधान    डॉ. ब्रह्मजीत गौतम
96.                   दानवता पर हो मानवता की जीत                    अशोक ‘अंजुम’
97.                   हिन्दू मुस्लिम सिख ईसाई में इन्सान दिखलाई देता डॉ. सुनील कुमार अग्रवाल
98.                   आज अपनों से खतरा हुआ देश को           डॉ. रसूल अहमद ‘सागर’
99.                   धर्म कोई हो, सबका हिन्दुस्तान एक है         कृष्ण कुमार
100.                भारत की सरज़मीं को बंटने न देंगे हम        महमूद खान अब्बासी
101.                मानवता ही एक धरम हो             खुर्शीद नवाब
102.                बहे नदी सर्व धर्म सद्भाव की                डॉ. सौम्या जैन ‘अंबर’
103.                पहले तो आप एक इन्सां बने               श्रीमती संयोगिता गोसांई ‘दर्पण’
104.                इन्सान को इन्सान समझना​ सीखें       डॉ. श्यामानन्द सरस्वती
105.                सलामत मेरा, हिन्दोस्ताँ रहे            खुर्शीद नवाब
106.                कहां मिलेगा हमें भगवान                   गुरचरण नारंग
107.                इन्सान को पूजो भगवान सा पाकर      डॉ. सुनील कुमार अग्रवाल
108.                कैसे भूल जाते हैं ‘इन्सानियत की खुशबू’            डॉ. उषा यादव
109.                धर्म-मज़हब के भुला कर भेद                कृष्ण कुमार
110.                हिन्दू, मुस्लिम, सिक्ख, पारसी सब हैं बालक तेरे     राही ओघारिया
111.                आओ बात करें बस हिन्दुस्तान की           ज्ञानचन्द ‘मर्मज्ञ’
112.                धर्म, कर्म अपनी जगह, सर्वोत्तम है प्यार डॉ. रसूल अहमद ‘सागर’
113.                इक डाल के पंछी हम                     मनोज अबोध
114.                सद्भाव रहें, सुविचार रहें                     पी.एस. शाक्य
115.                बोलो मानवता की बोली, करें सबकी रखवाली     विश्वनाथ मौर्य अकेला
116.                मानवता अपनायें                         गंगाराम अग्रवाल ‘उज्ज्वल’
117.                जब सबसे आधार में ईश, फिर काहे का विवाद विजय गुप्त
118.                सभी नाम हैं सृजक एक के                 यशराम सिंह
119.                हर जाति हर धर्म ने भारत की मिलकर शान बढ़ाई       आचार्य लक्ष्मण सिंह ‘स्वतंत्र’
120.                आओ हम सब मिलजुल गाएं वंदेमातरम्       प्रो. डॉ. जयजयराम आनंद
121.                बीज नफरत के कभी न बोओ               गंगाराम अग्रवाल ‘उज्ज्वल’                                                                                                                                                                                                                                                                 
122.                राष्ट्र चेतना ... एक लक्ष्य हो एक कदम       श्रीमती इंदिरा मोहन

123.                चमन रक्षा के लिए प्यार लाया              डॉ. नारायण दास खन्ना ‘नरेंद्र’
124.                इस धरती के अनन्त रस-क्षण से            प्रो. रामस्वरूप ‘सिन्दूरी’
125.                मेरा देश विशाल                         डॉ. पंडित आनंद मोहन ज्युत्षी
126.                ईश्वर की पूजा करनी तो इन्सानों से प्यार करो      डॉ. मायासिंह ‘माया’


Downloads | Privacy Policy |Delivery Policy | Terms & Conditions | Refund & Cancellation

Last updated: 19-Jun-2019   Designed by IndiaPRIDE.com