Welcome to gyanbooks.com
Jam Aur Jikky Jadui Lantern Ke Sath
9789380222851

  
SEND QUERY
 
Author Ahsan Khan
Year 2016
Binding Paperback
Pages 307
ISBN10, ISBN13 9380222858, 9789380222851
Short Description
The Title 'Jam Aur Jikky Jadui Lantern Ke Sath written/authored/edited by Ahsan Khan', published in the year 2016. The ISBN 9789380222851 is assigned to the PaperBack version of this title. This book has total of pp. 307 (Pages). The publisher of this title is GenNext Publication. This Book is in Hindi. The subject of this book is Hindi / Novel.
List Price: US $6.95
Your PriceUS $6.00
You Save10.00%
Looks for Similar Books by Keywords:
Hindi (language) | 2016 (year) |
Untitled Document

ABOUT THE BOOK

जैम और जिक्की ने सपने में भी नहीं सोचा था कि वो एक ऐसे अनजाने सफर पर निकलेंगे जहाँ रास्ते में हर जगह पर रहस्य और रोमांच भरा पड़ा था, साथ ही उन्हें डर भी लग रहा था कि कहीं ये उनका आखिरी सफर न हो। परन्तु जैसे कायनात की तरफ से एक जबरदस्त ताकत उनके पास आ जाती है, जब उन्हें कोई जादुई लालटेन देता है और उनसे ये उम्मीद करता है कि वो इसका सही इस्तेमाल करेंगे, और फिर दोनों जा पहुँचते हैं एक ऐसी जगह पर जो वर्षो पहले दुनिया के नक्शे से लुप्त हो चुका था और वहाँ पर कोई था जो उनका इन्तजार कर रहा था...

ABOUT THE AUTHOR

ऐहसान खान झारखण्ड राज्य के हजारीबाग जिले में एक छोटे से गाँव चैपारण के रहने वाले हैं। इन्होंने विनोबाभावे विश्वविद्यालय से बी.ए. की डिग्री हासिल की। इन्हें बचपन से ही जादुई कहानियाँ पढ़ने का बड़ा शौक रहा है। आज से कुछ वर्षों पहले इनके मन में जादुई लालटेन पर कहानी लिखने का विचार आया। इन्होंने शुरूआत की और कुछ पन्ने लिखे, परन्तु अपनी आर्थिक परेशानियों के कारण इन्हें अपनी कहानी अधूरी छोड़नी पड़ी और ये नौकरी की तलाश मे दिल्ली आ पहुँचे। कई सालों तक निजी कंपनियों में नौकरी करते फिरे, परन्तु अपने सपने को पूरा करने की चाहत ने फिर से इन्हें इस अधुरी कहानी को लिखने को प्रेरित किया और अंत में इन्होंने कई कठिनाइयों और चुनौतियों के बावजूद इस कहानी को पूरा किया।

CONTENTS

बार-बार आनेवाला सपना 9 2. जंगल की भयानक रात 21 3. मौज मस्ती भरे दिन 35 4. गलत रास्ते की ओर 57 5. अनजाना तोहफा 73 6. धूर्त प्रेतनी 99 7. जादुई बाडे़ के पार 117 8. अदृश्य शुतुरमुर्ग 137 9. सुनहरी इबारत 151 10. सुरीली दर्द भरी धुन 159 11. मकैक बन्दर 175 12. पत्थर के बुत 197 13. नीली धरती 221 14. रात का पहरेदार 245 15. बंद दरवाजे के पार 271


Reviews
No reviews added. Be the first one to add review!
Add Review

Write your review about this book. your review will be published within 24 hrs.

*Review
(Max. 200 characters.)
* Name :
*Country :
*Email :
*Type the Code shown
 
 
www.gyanbooks.com is not be responsible for typing or photographical mistake if any. Prices are subject to change without notice.