Welcome to gyanbooks.com
Tum Nirash Ho ?
9789380222936

  
SEND QUERY
 
Author Shesh Narayan Shastri
Year 2016
Binding Paperback
Pages 98
ISBN10, ISBN13 9380222939, 9789380222936
Short Description
The Title 'Tum Nirash Ho ? written/authored/edited by Shesh Narayan Shastri', published in the year 2016. The ISBN 9789380222936 is assigned to the PaperBack version of this title. This book has total of pp. 98 (Pages). The publisher of this title is GenNext Publication. This Book is in Hindi. The subject of this book is General / Novel / Fiction / Paperback.
List Price: US $4.95
Your PriceUS $4.00
You Save10.00%
Looks for Similar Books by Keywords:
Hindi (language) | 2016 (year) |
Untitled Document

ABOUT THE BOOK

यह पुस्तक सभी वर्गो के लिए है। परंतु कुछ अधिक स्तर तक मैंने इसे युवाओं तथा छात्रों तक सीमित किया है। ताकि नौजवान जैसी उर्जा और जिस तरीके से चाहते हैं, उन्हें मिल सके। जीवन के सुबह और रात के कठिन दर्शन को बेहद सरल शब्दों में रखा गया है जैसा की पुस्तक का शीर्षक स्पष्ट है, तुम निराश हो? ठीक वैसा ही मार्गदर्शन आपको जिंदगी के कठिनाईयों से निकलने में यह पुस्तक करायेगी। आपको यह अनुभव होगा जैसे कोई आपके दुःखती रगों पर हाथ सहला रहा है, और प्यार की थप्पी के साथ लक्ष्य के लिए प्रेरित कर रहा है। कहीं से ये प्रवचन की भाषा नहीं दिखेगी। आपको लगेगा जैसे आपका एक मित्रा आपसे बात कर रहा है आज का प्रत्येक चौथा व्यक्ति निराश है। सपफलता के प्रारंभ में ही आशा की अपेक्षा की जाती है। फिर यदि हम निराश रहेंगे तो लक्ष्य कैसे मिलेगा? अतः जिस परिवेश में हमें जीना है और जिस वातावरण से हमे तनाव मिलता है, उसी जहर के पुडि़या में शांति की भस्म की तलाश हमें करनी पड़ेगी। हमें निराशा से घबड़ा कर मैदान छोड़कर नहीं भागना है। बल्कि वहीं जहाँ हम हैं। मजबूती से खड़ा होकर उसका उपाय ढूँढना है। तुम निराश हो? यह पुस्तक निराशा से निकलकर सफल होने की आपको संपूर्ण विधि बतायेगी ।

ABOUT THE AUTHOR

(1) शेषनारायण शास्त्री (मोटिवेशन गुरू) - अयोध्या (उ. प्र.) (2) भूगोल स्नातक (3) अयोध्या क्षेत्र में शास्त्रों का अध्ययन किया। (4) प्रवचन एवं दर्शन का लंबा अनुभव (5) विभिन्न पत्र-पत्रिकाओं में युवा एवं दर्शन संबंधी लेख प्रकाशित होते रहे हैं। (6) इसके साथ-साथ चैरिटेबल संस्था मानव सेवा मिशन के संस्थापक अध्यक्ष हैं। (7) विभिन्न समाज सेवा के प्रकल्पों से जुड़े रहे हैं। (8) वर्तमान में पूर्ण रूप से समाज एवं राष्ट्रजागरण में समय दे रहे हैं।

CONTENTS

विषय-सूची 1. संघर्ष क्या है? 5 2. आप निराश और दुःखी क्यों हो? 9 3. क्या आप सफल हो? 21 4. जलन की दवा। 27 5. क्या आप डिप्रेशन में है? 33 6. स्नान, ध्यान और योग क्या है? 39 7. मेरी आवाज सुनो 45 8. जीवन में खलनायक होना जरूरी 51 9. नास्तिक कौन? 57 10. आपका प्रोटोकॉल क्या है? 63 11. पर्दा जरूरी है। 69 12. भारत कहीं खो गया है। 75 13. हम डरपोक है क्या? 81 14. कमी स्वीकार करो। 87 15- KNOW YOURSELF 93




Reviews
1.
youth ke liye ek bahut sundar prayash.... hame asha hai ki writer ko asha ke anurup logo ke dwara response milega.iske sath sath lekhak age bhi apne is tarah ke motivational writing se logo ko labh pahuchayege.
Added by: Mr. Dwijendra Vats, IndiaAdded on: 12.01.2016

Add Review

Write your review about this book. your review will be published within 24 hrs.

*Review
(Max. 200 characters.)
* Name :
*Country :
*Email :
*Type the Code shown
 
 
www.gyanbooks.com is not be responsible for typing or photographical mistake if any. Prices are subject to change without notice.