Welcome to gyanbooks.com
Biswi Sadi Mein Bharat Chin Sambandh
9789380222899

  
SEND QUERY
 
Author Keshav Mishra, Pravin Bhardwaj
Year 2016
Binding Hardback
Pages 322
ISBN10, ISBN13 9380222890, 9789380222899
Short Description
The Title 'Biswi Sadi Mein Bharat Chin Sambandh written/authored/edited by Keshav Mishra, Pravin Bhardwaj', published in the year 2016. The ISBN 9789380222899 is assigned to the Hardcover version of this title. This book has total of pp. 322 (Pages). The publisher of this title is GenNext Publication. This Book is in Hindi. The subject of this book is International Studies / HINDI BOOK.
List Price: US $18.95
Your PriceUS $17.00
You Save10.00%
Looks for Similar Books by Keywords:
Hindi (language) | 2016 (year) |
Untitled Document

ABOUT THE BOOK

भारत और चीन के आपसी संबंध न केवल सदियों से रहे हैं,बल्कि सहस्राब्दियों से बहुत ही मित्रातापूर्ण और आदान-प्रदानकारक रहे हैं। इस पुस्तक में, भारत एवं चीन की आजादी से पहले एवं आजादी के बाद बीसवीं शताब्दी के अंत तक आपसी संबंधो के बारे में एक विस्तृत विचार-विमर्श प्रस्तुत किया गया है। आजादी से पहले भारत एवं चीन के बीच बहुत ही घनिष्ठ संबंध रहे और दोनों देशों के क्रांतिकारी नेताओं के बीच समझबूझ भरा गहरा संबंध रहा। डॉ सन यात सेन ने कहा था-आनेवाली सदी भारत और चीन की सदी के नाम जाना जाएगा। लेकिन चीनी आमजनता के साथ भारत का तादात्म्य नहीं बन पाया। यह अलग बात है कि आजादी के बाद चीन की विस्तारवादी नीति के कारण भारत और चीन के बीच संबंध बहुत ही खराब हो गए। इसके जड़ में शायद चीन का महाशक्ति के रूप में अपनी जोरदार पहचान बनाने की जद्दोजहद हो। लेकिन भारत के लिए चीन की नीति दोहरे घाव करने वाली बन गई।

ABOUT THE AUTHOR

केशव मिश्रा जन्म-1966, रांची, झारखंड। प्रतिष्ठित सेंट जेवियर्स कॉलेज, रांची से स्नातक एवं सेंटर फॉर हिस्टोरिकल स्टडीज, जवाहर लाल नेहरू विश्वविघालय, नई दिल्ली से स्नातकोत्तर। यू जी.सी. से फेलोशिप पर शोध् एम.फिल. एवं पी.एच.डी. अंतर्राष्ट्रीय अध्ययन केन्द्र, जे.एन यू. से। वर्ष 1996 से के.एन.पी.जी. महाविघालय, ज्ञानपुर, भदोही, उत्तर प्रदेश में इतिहास का अध्यापन। वर्ष 1997 में फुदान विश्वविघालय, शंघाई में पी.एच.डी. के शोध् एवं संकलन के क्रम में चीन अध्ययन यात्रा। अगस्त 1998 से सी.एम.पी. महाविघालय, इलाहाबाद विश्वविघालय में अध्यापन। जुलाई, 2001 से जून 2003 के दौरान रक्षा अध्ययन एवं विश्लेषण संस्थान, नई दिल्ली के चीन समूह में सहायक फेलो के रूप में कार्य। नवम्बर 2006 से काशी हिन्दू विश्वविघालय, बनारस के इतिहास विभाग में शिक्षण। नवम्बर 2011 में सीएएसएस, पेचिंग में भारत-चीन सांस्कृतिक संबंध् आदान-प्रदान कार्यक्रम के तहत भारतीय सामाजिक अनुसंधन परिषद् द्वारा चयनित एवं चीन का शैक्षणिक भ्रमण। प्रकाशित पुस्तक- रेप्रोचमा एक्रॉस हिमालयाज- इमर्जिंग इन्डिया चाइना रिलेशन्स, 2004- कल्पज प्रकाशन, नई दिल्ली। पता- इतिहास विभाग, सामाजिक विज्ञान संकाय, काशी हिन्दू विश्वविघालय, बनारस- 221005।

प्रवीण भारद्वाज जन्म-1972 भागलपुर, बिहार। प्रतिष्ठित वाटसन उच्च विघालय, मधुबनी से मैट्रिक एवं टी.एन.बी.कॉलेज, भागलपुर से इंटरमीडिएट। हिन्दू कॉलेज, नई दिल्ली से स्नातक एवं दिल्ली विश्वविघालय से स्नातकोत्तर और पी.जी.डिप्लोमा इन ट्रांस्लेशन। मार्च 1997 को भारतीय लघु उघोग विकास बैंक, में सहायक प्रबन्धक (हिन्दी) के रूप में योगदान। मैथिली, हिन्दी का कई समाचार-पत्रा, पत्रिकाओं का संपादन। प्रकाशित पुस्तकें- मिथिला माजुली शंकरदेव (हिन्दी), 2010 भारत में माइक्रो फाइनांस- गरीबी उन्मूलन के लिए कारगर हथियार (हिन्दीद्) 2012- इस पुस्तक को राजीव गांधी राष्ट्रीय ज्ञान विज्ञान मौलिक पुस्तक लेखन पुरस्कार 2012 माननीय राष्ट्रपति महोदय से प्राप्त। दादीमाँक खिस्सा ;मैथिलीद्ध 2013। समकालीन भारतीय साहित्य, जनसत्ता, नई दिल्ली, जनसत्ता एक्सप्रेस, लखनऊ, सेंटिनल, पूर्वोदय एवं पूर्वांचल प्रहरी, गुवाहाटी से कई लेख-निबंध्, कथा-कविताएं प्रकाशित। पता- 11E/ 98, वृन्दावन योजना, राय बरेली रोड, लखनऊ- 226025।


CONTENTS

विषय सूची:- आमुख..7 धन्यवाद ज्ञापन ..11 1. भारत-चीन संबंध-एक ऐतिहासिक आकलन .15 2. भारतीय राष्ट्रवादियों के संग चीनी क्रांतिकारियों का सहयोग.47 3. चीन में गांधीवादी आंदोलन की गूँज .67 4. ऐतिहासिक पृष्ठभूमि (1947-1962) .91 5. गतिरोध् की अवधि(1963-1975).117 6. मैत्री की ओर (1976-1991).137 7. दक्षिण एशियाई संबंध (1963-1991) . 175 8. अंतर्राष्ट्रीय समायोजन (1963-1991) .217 9. मैत्री करना (1992-1997)..253 10. संक्षिप्त भंग (1998)..277 11. उपसंहार ..301 12. इक्कीसवीं सदी में मैत्री..313






Reviews
No reviews added. Be the first one to add review!
Add Review

Write your review about this book. your review will be published within 24 hrs.

*Review
(Max. 200 characters.)
* Name :
*Country :
*Email :
*Type the Code shown
 
 
www.gyanbooks.com is not be responsible for typing or photographical mistake if any. Prices are subject to change without notice.